श्रावण मास 2019 में भगवान् शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए करे ये सरल उपाय

By | July 17, 2019

श्रावण मास 2019 में भगवान शिव को प्रसन करने के सरल उपाय

प्यारा श्रावण जिसके आते ही वर्षा की बौछारें, चारो ओर हरियाली, फूल, मन को मोहित कर देते हैI केवल प्राकृतिक सौंदर्य की द्रष्टि से ही नहीं बल्कि धार्मिक द्रष्टि से भी यह श्रावण मास अत्यधिक महत्वपूर्ण माना गया है I यह सम्पूर्ण श्रावण मास पूर्ण रूप से भगवान् शिव को समर्पित है I इस मास में भगवान् शिव की पूजा विशेष रूप से की जाती है I श्रावण में पड़ने वाले प्रत्येक सोमवार को उनका उपवास किया जाता है I

शिवमहापुराण में यह वर्णित है की जो मनुष्य आलस्य त्याग कर इस श्रावण मास में भगवान् शिव की विधिवत पूजा करता  है , उनका अभिषेक करता है, वह सहज ही भगवान् शिव की कृपा को प्राप्त कर लेता है I  इस पवित्र श्रावण मास में भगवान् भोलेनाथ की पूजा विशेष फल प्रदान करती है I  इस मास में कुछ सरल उपायों से भगवान् शिव को प्रसन कर मनुष्य अपने जीवन में सुख, शांति और समृद्धि को प्राप्त कर सकता है Iये उपाय इस प्रकार से है:

भगवान् शिव को प्रसन करने के उपाय

श्रावण मास में यह नियम बना ले की प्रतिदिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान आदि से निवृत होकर आप शिवालय जाये तथा भगवान् शिव का पंचामृत से अभिषेक करे I पंचामृत पांच तत्वों दूध, घी, दही, गंगाजल और शहद से बनाया जाता है I  शिवमहापुराण के अनुसार जो मनुष्य प्रतिदिन पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करता है , वह मनुष्य शरीर त्यागने के पश्चात कैलाश पर्वत पर जाकर भगवान शिव के साथ एक कल्प तक निवास करता है I

श्रावण मास

भगवान शिव पर प्रतिदिन बेल पत्र चढ़ाये I ऐसी मान्यता है की भगवान शिव पर प्रतिदिन बेल पत्र चढ़ाने से मनुष्य के 3 जन्मो के पाप नष्ट हो जाते है तथा यदि आप प्रतिदिन 21 बेलपत्रों पर चन्दन से “ॐ नमो शिवाय” लिख कर शिवलिंग पर चढ़ाते है तो केवल इस एक उपाय से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है I

भगवान् शिव “रूद्र” के नाम से जाने जाते है इसलिए उनका अभिषेक “रुद्राभिषेक” कहलाता है I श्रावण में किसी एक दिन भगवान् शिव का रुद्राभिषेक करवाए I ऐसी मान्यता है की भगवान् शिव का रुद्राभिषेक  करवाने से उनकी विशेष कृपा तो प्राप्त होती ही है बल्कि कुंडली के कुछ अनिष्ट ग्रहो की भी शांति होती है I

श्रावण मास में आने वाले सभी सोमवार को भगवान शिव का उपवास करे I ऐसी मान्यता है की श्रावण मास  में सोमवार का व्रत रखने से वर्ष के सभी सोमवार व्रत का फल प्राप्त होता है I

घर में -ve energy को दूर करने के लिए श्रावण मास में प्रतिदिन आप घर में गोमूत्र का छिड़काव करे तथा गूगल धूप जलाये I

भगवान् शिव के पवित्र ग्रन्थ “शिव महापुराण” का पठन अथवा श्रवण करे , शिव महापुराण का श्रवण करने मात्र से मनुष्य के कई पापो का शमन होता है Iश्रावण मास 2019

श्रावण मास में भगवान शिव के पञ्चाक्षर मन्त्र ” नमो शिवाय ” का रुद्राक्ष की माला से अधिक से अधिक जाप करे I  इस मन्त्र के आदि में लगा देने से यह मन्त्र षडाक्षर हो जाता है  शिव पुराण में यह वर्णित है की संसार बंधन में बंधे हुए मनुष्यो के हित की कामना से ही स्वयं भगवान् शिव ने इस मन्त्र का प्रतिपादन किया था I इस मन्त्र के जप से मनुष्य परमात्मा शिव में मिल कर शिव स्वरुप हो जाता हैI

ॐ नमो शिवाय

श्रावण मास में भगवान्  शिव पर अक्षत अथार्त चावल चढ़ाने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है, काला  तिल चढ़ाने से शनि ग्रह की शांति होती है, जौ चढ़ाने से परिवार में सुख शांति और समृद्धि आती है, गन्ने का रस अर्पित करने से कई प्रकार के आनंद की प्राप्ति होती है , भगवान् शिव पर गंगा जल चढ़ाने से भोग और मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है I

श्रावण मास में भगवान् शिव की सवारी नंदी अथार्त बैल को प्रतिदिन हरा चारा खिलाने से घर में राजा महाराजा जैसा ऐश्वर्य आता है I

श्रावण मास में प्रतिदिन गरीबो को भोजन खिलाने से घर में अन्न की कमी कभी नहीं होती और साथ ही पितृ दोष में भी शांति प्राप्त होती है I

श्रावण मास में किसी भी सोमवार को कच्चे दूध में काला तिल और गंगा जल मिला कर भगवान् शिव का अभिषेक करे तथा महामृत्युंजय मन्त्र का जाप करे , कम से कम 5 माला अवशय करे तथा भगवान् शिव से रोग निवारण के लिए प्राथना करे I यदि रोग गंभीर है तो किसी योग्य ब्राह्मण द्वारा महामृत्युंजय मन्त्र का सवा लाख जाप करवाए , जाप समाप्ति होने पर हवन करवाए , ऐसा करने से गंभीर से गंभीर रोग की भी समाप्ति होती है I

आप सब भी इस पवित्र श्रावण मास में इन उपायों से भगवान शिव का यथाविधि पूजन करे , भगवान् शिव सदा आपका कल्याण करेंगे , ऐसा मुझे पूर्ण विश्वास है ,क्योंकि जहाँ आस्था है वहीं रास्ता है I

ॐ नमो शिवाय ॐ नमो शिवाय ॐ नमो शिवाय ॐ नमो शिवाय ॐ नमो शिवाय ॐ नमो शिवाय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *