Category Archives: कहानियाँ

Ravan ki Janam katha / रावण की जन्म कथा / किस प्रकार हुआ था रावण का जन्म

रामायण में महाबलि रावण एक ऐसा पात्र था जो भगवान् श्री राम के उज्जवल चरित्र को उभारने का कार्य करता था | अगर रावण नहीं होता तो इस पूरे ग्रंथ का निर्माण ही नहीं होता इसलिए इसमें रावण का विशेष महत्‍व है। रावण एक उच्च कोटि के ब्राह्मण, अति बलशाली और विद्धान पंडित थे |… Read More »

Motivational Stories/Short Motivational Stories

ईश्वर पर विश्वास रखे (Motivational Stories & Inspirational Short Stories) मनुष्य जीवन में कई प्रकार के संघर्ष और कठिनाइयाँ आती है , और यदि दुःख का समय थोड़ा लम्बा हो जाये तो हम अपना धैर्य खोने लगते है , हमे ऐसा लगता है की अब कभी कुछ ठीक नहीं होगा l और ऐसे समय में… Read More »

माता लक्ष्मी को पाने के लिए पूजे नारायण को/ Story in hindi

माता लक्ष्मी को पाने के लिए पूजे नारायण को यह बिलकुल सच है की इस दुनिया में जीने के लिए हवा और पानी के साथ साथ माया की भी बहुत आवश्यकता है l “माया” अथार्त “धन” ……    धन को कमाने के लिए इंसान कड़ी मेहनत करता है और माता लक्ष्मी से अपने घर में निवास करने के… Read More »

बुरे समय में प्रयास ना छोड़े / Motivational story in hindi

बुरे समय में प्रयास ना छोड़े / Motivational story in hindi मनुष्य जीवन में कई प्रकार की कठिनाइयाँ, संघर्ष और मुसीबतें आती रहती है । ये कठिनाइयाँ, यह बुरा समय केवल मनुष्य जीवन में ही नहीं बल्कि हमारे देवी देवताओं के जीवन में भी आये। हमारे धर्म में, हमारे इतिहास में ऐसे कई उदाहरण है, जब… Read More »

जैसे कर्म करेगा वैसे फल देगा भगवान्

Karm ka phal मनुष्य जीवन सरल नहीं है, जीवन में कई प्रकार के संघर्ष और कठिनाइयां आती है , कितने ही दुःख आते है और ऐसे में हम यह सोचते है की हमारे साथ ही ऐसा क्यों हुआ , ऐसा मैंने कौन सा पाप किया था जिसकी वजह से मुझे यह गहरा दुःख मिला है… Read More »

अपने गुरु पर विश्वास रखे

बहुत पुरानी बात है II कहीं एक बहुत ज्ञानी और पहुंचे हुए संत थे, संत के आश्रम में 30 सेवक रहते थे , जो अपने गुरु से दीक्षा लेते थे और आश्रम की सेवा करते थे I एक समय उनमे से एक सेवक की बहन का विवाह तय हो गया , परन्तु उस सेवक के… Read More »

भक्त के वश में है भगवान्

एक कसाई था सदना। वह बहुत ईमानदार था, वह सदा भगवान के नाम कीर्तन में ही मस्त रहता था। यहां तक की मांस को काटते-बेचते हुए भी वह भगवद्नाम गुनगुनाता रहता था । एक दिन वह अपनी ही धुन में कहीं जा रहा था, कि उसके पैर से कोई पत्थर टकराया। सदना वहीँ रूक गया,… Read More »

नियत हमेशा साफ़ रखे

एक नगर में रहने वाले एक पंडित जी की ख्याति दूर-दूर तक थी। पास ही के गाँव में स्थित मंदिर के पुजारी का आकस्मिक निधन होने की वजह से, उन्हें वहाँ का पुजारी नियुक्त किया गया था। एक बार वे अपने गंतव्य की और जाने के लिए बस में चढ़े, उन्होंने कंडक्टर को किराए के रुपये दिए और… Read More »

दूसरो की परेशानी मे उनकी मदद करे

एक *चूहा* एक कसाई के घर में बिल बना कर रहता था। एक दिन *चूहे* ने देखा कि उस कसाई और उसकी पत्नी एक थैले से कुछ निकाल रहे हैं। चूहे ने सोचा कि शायद कुछ खाने का सामान है। उत्सुकतावश देखने पर उसने पाया कि वो एक *चूहेदानी* थी। ख़तरा भाँपने पर उस ने… Read More »

कर्मो का फल

एक स्त्री थी जिसे 20साल तक संतान नहीं हुई।कर्म संजोग से 20वर्ष के बाद वो गर्भवती हुई और उसे पुत्र संतान की प्राप्ति हुई किन्तु दुर्भाग्यवश 20दिन में वो संतान मृत्यु को प्राप्त हो गयी।वो स्त्री हद से ज्यादा रोई और उस मृत बच्चे का शव लेकर एक सिद्ध महात्मा के पास गई ।महात्मा से रोकर कहने लगी मुझे मेरा बच्चा बस एक बार जीवित करके दीजिये, मात्र एक बार मैं उसके मुख से” माँ ” शब्द सुनना चाहती हूँ ।स्त्री के बहुत जिद करने पर महात्मा ने 2मिनट के लिए उस बच्चे की आत्मा को बुलाया। तब उस स्त्री ने उस आत्मा से कहा तुम मुझे क्यों छोड़कर चले गए?मैं तुमसे सिर्फ एक बार ‘ माँ ‘ शब्द सुनना चाहती हूँ।  तभी उस आत्मा ने कहा कौन माँ? कैसी माँ !!मैं तो तुमसे कर्मों का हिसाब किताब करने आया था।स्त्री ने पूछा कैसा हिसाब!!आत्मा ने बताया पिछले जन्म में तुम मेरी सौतन थी,मेरे आँखों के सामने मेरे पति को ले गई;मैं बहुत रोई तुमसे अपना पति मांगा पर तुमने एक न सुनी।तब मैं रो रही थी और आज तुम रो रही हो!!बस मेरा तुम्हारे साथ जो कर्मों का हिसाब था वो मैंने पूरा किया और मर गया। इतना कहकर आत्मा चली गयी।उस स्त्री को झटका लगा।उसे महात्मा ने समझाया देखो मैने कहा था न कि ये सब रिश्तेदार माँ,पिता,भाई बहन सब कर्मों के कारण जुड़े हुए हैं ।हम सब कर्मो का हिसाब करने आये हैं। इसिलए बस अच्छे कर्म करो ताकि हमे बाद में भुगतना ना पड़े।वो स्त्री समझ गयी और अपने घर लौट गयी । शिक्षा: * किसी को दुःख ना दो , क्योंकि जो हम देंगे वो ही हमारे पास वापिस आएगा , इसलिए हमेशा अच्छे  कर्म करो ॥