बुरे समय में प्रयास ना छोड़े / Motivational story in hindi

By | July 26, 2019
Motivational story in hindi

बुरे समय में प्रयास ना छोड़े / Motivational story in hindi

मनुष्य जीवन में कई प्रकार की कठिनाइयाँ, संघर्ष और मुसीबतें आती रहती है । ये कठिनाइयाँ, यह बुरा समय केवल मनुष्य जीवन में ही नहीं बल्कि हमारे देवी देवताओं के जीवन में भी आये। हमारे धर्म में, हमारे इतिहास में ऐसे कई उदाहरण है, जब देवी देवताओ को भी बुरे समय से और संघर्षो से गुजरना पड़ा ।

जैसे कर्म करेगा वैसे फल देगा भगवान्

Motivational story in hindi
भगवान् राम बनवास के समय

यह प्रकृति का नियम है की समय सदा बदलता ही रहता है, समय की चक्की अपनी गति से घूमती ही रहती है । आज यदि समय बुरा चल रहा है तो कुछ समय के पश्चात, कभी ना कभी, यही समय जरूर change होगा, लेकिन जरूरत है तो इस बुरे समय में, इस ख़राब समय में, हिम्मत और patience बनाये रखने की ।    

शनि चालीसा पाठ / Shani Chalisa Pathh

अक्सर बुरे समय में हम अपना patience खो देते है , हमारी हिम्मत जवाब देने लगती है , हमे ऐसा लगता है की अब कभी कुछ ठीक नहीं होगा – अब कभी कुछ भी सही नहीं होगा और हमारी यही सोच तथा हमारा इस प्रकार धैर्य छोड़ देने से ही हम सचमुच हार जाते है । परन्तु दूसरी ओर यदि हम इस ख़राब समय में भी अपनी हिम्मत बनाये रखे, अपना patience ना छोड़े और Hindi Movie (3 Idiots) का famous dialogue -“All is well” खुद से कहते रहे तो विश्वास कीजिये आप जल्दी ही इस बुरे समय से बाहर आ जायेंगे ।

Example के लिए आज मै आपको Famous Business Tycoon स्वर्गीय श्री धीरुभाई अंबानी की जीवन गाथा में से एक किस्सा यहाँ बताना चाहती हूँ जिसे पढ़कर आपको भी एक नयी प्रेरणा मिलेगी, एक नया उत्साह मिलेगा ।  

Motivational story in hindi

बात कुछ पुरानी है, एक दिन धीरूभाई अम्बानी अपनी कार में किसी urgent meeting करने जा रहे थे। राह में एक भयंकर तूफ़ान आया जिसमे कार drive करना मुश्किल हो रहा था, तब ड्राइवर ने अम्बानी से पूछा — Sir, अब हम क्या करें? परन्तु अम्बानी ने जवाब दिया — कार चलाते रहो, रुको मत ।

तूफ़ान में कार चलाना बहुत ही मुश्किल हो रहा था, तूफ़ान और भयंकर होता जा रहा था. अब ड्राइवर ने पुनः पूछा : “Sir, मैं क्या करू ?” — “कार चलाते रहो. रुको मत ” — अम्बानी ने पुनः कहा । थोड़ा आगे जाने पर ड्राइवर ने देखा की राह में कई vehicles तूफ़ान की वजह से रुके हुए थे…… उसने फिर अम्बानी से कहा –“Sir मुझे कार रोक देनी चाहिए…….मैं मुश्किल से देख पा रहा हुं!!…….यह भयंकर है और प्रत्येक ने अपना vehicle रोक दिया है…….”

इस बार अम्बानी ने फिर निर्देशित किया — कार रोकना नहीं. बस चलाते रहो…. तूफ़ान ने बहुत ही भयंकर रूप धारण कर लिया था किन्तु ड्राइवर  ने कार चलाना नहीं छोड़ा………. शनि चालीसा पाठ / Shani Chalisa Pathh

Motivational story in hindi

और कुछ ही समय के बाद अचानक ही उसने देखा कि कुछ साफ़ दिखने लगा है.. आसमान साफ़ हो रहा है …. कुछ किलो मीटर आगे जाने के पश्चात ड्राइवर ने देखा कि तूफ़ान थम गया और सूरज निकल आया है ……….. अब अम्बानी ने कहा — “Driver, अब तुम कार रोक सकते हो और बाहर आ सकते हो”……..तब Driver ने पूछा — “Sir, पर अब क्यों?” अम्बानी ने कहा — “जब तुम बाहर आओगे तो देखोगे कि जो राह में रुक गए थे, वे अभी भी तूफ़ान में फंसे हुए हैं”….. जैसे कर्म करेगा वैसे फल देगा भगवान्

Motivational story in hindi

चूँकि driver तुमने कार चलाने का प्रयत्न नहीं छोड़ा, इसलिए तुम तूफ़ान के बाहर हो……यदि तुम भी उस समय कार drive करना बंद कर देते तो तुम भी अभी तक उस तूफान में फसें होते …

अपने इसी बुलंद साहस के कारण ही धीरूभाई अम्बानी ने अपने जीवन में आए हुए सभी struggles से हँसते हँसते गुजरते रहे और एक दिन Business world के बादशाह बन गए , उनके जीवन के यह छोटे छोटे परन्तु motivational किस्से हमे जीवन में बहुत कुछ सीखा देते है!

सार (Moral) : यह किस्सा उन लोगों के लिए एक example है जो कठिन समय से गुजर रहे हैं………मजबूत से मजबूत इंसान भी बुरे समय में प्रयास छोड़ देते हैं……..किन्तु प्रयास कभी भी छोड़ना नहीं चाहिए……निश्चित ही जिन्दगी के कठिन समय गुजर जायेंगे और सुबह के सूरज की भांति चमक आपके जीवन में पुनः आयेगी…….!! ऐसा नहीं है की life बहुत छोटी है। दरअसल हम जीना ही बहुत देर से शुरू करते हैं!!! जैसे कर्म करेगा वैसे फल देगा भगवान्

आशा करती हूँ, की इस कहानी से आपको motivation जरूर मिली होगी , यदि आपके पास भी ऐसी कोई motivational story है तो मुझे Comments box में लिख कर भेजे, मैं अपने इस Blog में आपकी story अवश्य publish करुँगी !!



धन्यवाद
ज्योति गोयनका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *