सात्विक भोजन क्या है और सात्विक भोजन के लाभ / Satvik bhojan ke labh in hindi

By | July 23, 2019

सात्विक भोजन / Satvik bhojan ke labh in hindi

Satvik Food

मुझे गर्व है अपनी भारतीय संस्कृति पर, अपनी भारतीय शैली पर और अपनी भारतीय पद्धति पर । आज के इस मशीनी और आधुनिक युग (Modern life) में जहाँ सब कुछ digital हो चुका है , वहां यदि हम भारतीय शैली (indian culture) को अपनाए तो मैं challenge के साथ कह सकती हूँ, की हमारी life और हमारी health दोनों ही बहुत better हो जायेंगे।

(Satvik bhojan ke labh)

हमारे प्राचीन ऋषि मुनियो ने भोजन में सात्विक भोजन (Satvik food) को बहुत importance दी है । वे स्वयं भी सात्विक भोजन (satvik food) ही ग्रहण करते थे और वे सब ऊर्जायुक्त, बलवान, शांत, अध्यात्मिक और तीव्र बुद्धि वाले थे । उनके मस्तक पर सदा एक अलौकिक तेज (glow) रहता था । क्या आप जानते है ? इस का क्या कारण था – इसका मुख्य कारण था – उनका भोजन – उनका आहार (diet) । वे सब शुद्ध और सात्विक भोजन (Satvik food) ही ग्रहण करते थे।

satvik food
(Satvik bhojan ke labh)

तो सर्वप्रथम हम यह जानेगे की सात्विक भोजन (Satvik food) क्या है ?
सात्विक भोजन : वह भोजन जो पूर्ण रूप से शाकाहारी (vegetarian) हो, अथार्त जो बिना प्याज -लहसुन के बनाया गया हो, जिसमे सत्व गुण की प्रधानता हो, जो सादा, शुद्ध और हल्का हो, पचने में आसान हो, जो हमारे शरीर की ग्रंथियों से उत्पन्न रस से बिना किसी अधिक तकलीफ के पच (digest) जाये , जो भोजन ताजा (fresh) पका हुआ, रसीला , पोषक तत्वों से भरपूर तथा स्वादिष्ट हो, वही भोजन सात्विक भोजन (Satvik food) कहलाता है ।

उदाहरण : दूध, दलिया, आटा, जौ, दाल, फल, हरी सब्जियां, फलो का रस, छाछ आदि Satvik food

हमारे प्राचीन ऋषि मुनियों ने सात्विक भोजन (Satvik food) के कई लाभ (benefits) बताए है । ये लाभ इस प्रकार है :

सात्विक भोजन के लाभ (Benefits of Satvik food) Satvik bhojan ke labh in hindi

पौष्टिक : सात्विक भोजन शुद्ध, स्वच्छ और पौष्टिक गुणों से भरपूर होता है , जो हमारी health को improve करता है। High B.P और ब्लड शुगर के patients के लिए सात्विक भोजन (sativk food) एक अच्छा विकल्प है।

पचने में आसान: जहाँ तामसिक भोजन पाचन तंत्र पर जोर डालकर शरीर के बल को कम करता है, वहीँ सात्विक भोजन (satvik food) सरलता से पच जाता है । कहते है की हमारे शरीर के आधे से ज्यादा रोग पेट और पाचन तंत्र के बिगड़ने के कारण होते है । तामसिक भोजन का ज्यादा सेवन पाचनतंत्र पर विपरीत प्रभाव डालता है, वहीँ सात्विक भोजन आसानी से पच कर पेट और पाचन प्रणाली को आराम देता है, जिससे स्वास्थ्य (health) की वृद्धि होती है ।

मानसिक शांति : आयुर्वेद के अनुसार सात्विक भोजन (Satvik food) मन और बुद्धि को शांत करता है ।जिस प्रकार एक सी प्रवृति वाली वस्तुएँ परस्पर प्रतिबिम्बित होती है, उसी प्रकार सात्विक भोजन भी शांतिपूर्ण होता है । सात्विक भोजन, आयुर्वेद के प्राचीन नियमो पर आधारित है, जो सामान्य और पांरपरिक विधियों से तैयार किया जाता है । जिसके सेवन से क्रोध, आलस्य दूर भागता है तथा मन- मस्तिष्क पूर्ण रूप से शांत होता है ।

(Satvik bhojan ke labh in hindi)

सौंदर्य वृद्दि : सात्विक भोजन (Satvik food ) सूंदर और आकर्षक तन प्रदान करता है । सात्विक आहार जैसे फल, हरी सब्जियाँ (green vegetables) दूध के सेवन से skin में एक अलग ही glow आता है और बाल भी चमकदार हो जाते है ।

निर्मल बुद्धि : शुद्ध सात्विक भोजन (Satvik food) से अंत:करण की शुद्धि होती है, जिस कारण बुद्धि निर्मल होती है और बुद्धि निर्मल हो जाने से आपका व्यवहार, आपका चरित्र सब कुछ पवित्र और निर्मल हो जाता है, अथार्त जैसा भोजन वैसा ही मन ।

अंत में सार (summry) यही निकलता है की सात्विक भोजन शारीरिक स्वास्थ्य और सुंदरता (beauty) को बढ़ाने के साथ साथ मन और आत्मा दोनों को पवित्र कर देता है, इसलिए आप भी सात्विक भोजन (satvik food) का ही सेवन करे ।

(Satvik bhojan ke labh in hindi)

आपको यह article कैसा लगा, मुझे Comment box में लिखना ना भूले

धन्यवाद

ज्योति गोयनका

Category: अन्य Tags: , , , , , , , , ,

About jyotee Goenka

जय माता दी, मै ज्योति गोयनका आप सब का अपने इस ब्लॉग में स्वागत करती हूँ यह ब्लॉग मैंने माता रानी की प्रेरणा से हमारे समाज में धरम प्रचार का एक छोटा सा प्रयास करने के लिए बनाया है, माता रानी ने मेरे जीवन में बहुत से चमत्कार किये है, मेरा यह मानना है की सच्ची भक्ति और श्रदा से भाग्य में लिखा हुआ भी बदल सकता है, धरम के मार्ग पर चलकर किसी का बुरा नहीं हो सकता, इसी विश्वास को लेकर मैंने यह एक धार्मिक ब्लॉग बनाया है, आशा करती हूँ , मेरा यह प्रयास आप सबको पसंद आएगा, इस विषय में यदि आपके कुछ सुझाव हो मुझे अवशय लिखे , जय माता दी, ज्योति गोयनका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *